Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

GLA UNIVERSITY: स्वयंप्रभा के माध्यम से जीएलए के शिक्षकों द्वारा तैयार कोर्स से पढ़ाई कर रहे राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय विद्यार्थी

 स्वयंप्रभा चैनल पर प्रसारण हेतु जीएलए के शिक्षकों ने तैयार किए 14 से अधिक कोर्स

GLA UNIVERSITY: भगवान श्रीकृष्ण की नगरी ब्रज में बसा हुआ ‘जीएलए विश्वविद्यालय’ हमेशा से ही न केवल उत्कृष्ट-शिक्षा के लिये विख्यात रहा है, बल्कि विद्यार्थियों को रोजगारपरक बनाने में भी यह अग्रणी भूमिका निभा रहा है। यह सब यहाँ की बेहतर तकनीकी-शिक्षा का कमाल है। इस बेहतर शिक्षा को ‘स्वयंप्रभा चैनल’ के माध्यम से लाखों विद्यार्थियों तक पहुंचाने के लिए ‘भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय’ ने जीएलए के 10 से अधिक शिक्षकों को यह अवसर प्रदान किया है।

भारत सरकार के प्रोजेक्ट के तहत ‘स्वयंप्रभा’ उच्च गुणवत्ता वाले शैक्षिक-कार्यक्रमों के प्रसारण के लिए समर्पित करीब 34 डीटीएच-फ्री चैनलों का एक समूह है, जहां हर रोज कम-से-कम 4 घंटे के लिए नई सामग्री दिन में 5 बार दोहराई जाती है। इससे छात्रों को उनकी सुविधा का समय चुनने का अवसर मिलेगा। इन्हीं चैनलों के माध्यम से ‘जीएलए विश्वविद्यालय’ के 10 से अधिक शिक्षकों को ‘’मैनेजेरियल इकनॉमिक्स, रिसर्च एंड पब्लिकेशन एथिक्स, हिस्ट्री ऑफ वेस्टर्न फिलॉसफी, इंग्लिश लैंग्वेज टीचिंग, सोशल पर्सपेक्टिव्स ऑन लैंग्वेज, राइटिंग स्किल लैंग्वेज, वुमन राइटिंग, कॉर्पोरेट फाइनेंस, इंटरनेशनल बिजनेस मैनेजमेंट, प्रोफेशनल कम्यूनिकेशन मैनेजर्स, लीगल एंड रेगुलेटरी मेट्रिक्स फॉर बिजनेस, ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट, मार्केटिंग मैनेजमेंट और मैनेजमेंट प्रोसेस एंड ऑर्गनाइजेशनल बिहेवियर’ विषय पर लेक्चर रिकॉर्ड करने का अवसर मिला है।

ये भी पढ़ें: विश्वविद्यालय और उच्च शिक्षण संस्थानों में कल से चलेंगी आनलाइन क्लासें, जानें परीक्षाएं कैसे होंगी, आनलाइन या आफलाइन

‘इंटरनेशनल अफेयर्स निदेशक एंड प्रोजेक्ट इंचार्ज, अंग्रेजी विभाग’ के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. निर्भय कुमार मिश्रा ने बताया कि पिछले छह माह माह से ‘जीएलए’ और ‘आईआईटी, कानुपर’ मिलकर विभिन्न विषयों पर 20-20 वीडियो लेक्चर्स रिकॉर्ड कर रहे हैं। प्रत्येक लेक्चर का समय लगभग 1 घंटा होता है। संबंधित विषयों पर आधारित लेक्चर्स में उच्च-शिक्षा के अन्तर्गत विभिन्न प्रकार की ‘इकनॉमिकल और अंतर्राष्ट्रीय-स्तर पर व्यापार को बढ़ावा देने’ से संबंधित जानकारियां शामिल हैं। ये लेक्चर्स ‘फ्री-डीटीएच’ पर चलने वाले ‘स्वयंप्रभा चैनल’ पर प्रसारित हो रहे हैं। इस प्रसारण के माध्यम से उच्च-शिक्षा लेने वाले अपनी पढ़ाई आसानी से कर सकेंगे। इसके साथ ही छात्र, व्यापार को बढ़ावा देने से संबंधित भी जानकारी हासिल कर सकते हैं। नौकरी पेशे से लेकर व्यापार से संबंधित कोर्स तक रिकॉर्ड कर प्रसारित हो रहे हैं।

प्रति-कुलपति प्रो. अनूप कुमार गुप्ता ने बताया कि विश्वविद्यालय के लिए यह बड़ी उपलब्धि है कि भारत सरकार के प्रोजेक्ट पर कार्य करने के लिए विभिन्न संकायों के 10 से अधिक प्रोफेसर्स को लेक्चर रिकॉर्ड और प्रसारण हेतु यह अवसर मिला है। सभी प्रोफेसर ‘स्वयंप्रभा’ के जरिये देशभर के विद्यार्थियों से जुड़ पाएंगे। इससे प्रोफेसर्स को उनकी विशेषज्ञता दिखाने का मौका मिलेगा। टीवी चैनल्स पर आने से उनकी पहचान बनेगी। वीडियो को लेकर प्रोत्साहन-राशि भी मिलेगी। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय के प्रोफेसर्स को मिलने वाले प्रोजेक्ट में जीएलए डीन (रिसर्च) प्रो. कमल शर्मा और अंग्रेजी विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. निर्भय कुमार मिश्रा का सहयोग सराहनीय है। इनके माध्यम से ही विश्वविद्यालय में डिजिटल ई-कंटेंट प्रोजेक्ट्स पर कार्य चल रहा है।

स्वयंप्रभा पर इनके कोर्स

‘जीएलए इंस्टीट्यूट ऑफ़ लीगल स्टडीज एंड रिसर्च (विधि संस्थान)’ के प्रो. अविनाश दाधीच, अंग्रेजी विभाग से डॉ. निर्भय कुमार मिश्रा, डॉ. अरिबा शब्बीर, डॉ. कल्पना दिवाकर, डॉ. दिव्या गुप्ता, डॉ. कस्तूरी सिन्हा रे, प्रबंधन संकाय से डॉ. सुप्रिया जैन, डॉ. अनुराग सिंह, डॉ. मनीषा गोस्वामी, डॉ. हिमानी सिंह के द्वारा तैयार ये कोर्सेस और रिकॉर्ड किये लेक्चर्स ‘स्वयंप्रभा’ के जरिए लाखों विद्यार्थियों तक पहुंच रहे हैं।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ और ‘DNP EDUCATION’ को अभी subscribe करें।आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं

Show CommentsClose Comments

Leave a comment

Subtitle

Subscribe to Free Weekly Articles

Some description text for this item

DNP EDUCATION ©. All Rights Reserved.